शराब | उत्तराखंड की जवानी ख़त्म करता नया पानी By Editorial Team

चन्द्रिल कुलश्रेष्ठ

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठकर,

या वो जगह बता दे जहां पर खुदा न हो। 

कुदरत के हर जर्रे में खुदा होता है लेकिन भारत भूमि का एक राज्य है उत्तराखंड, जहां के हर एक कण में ईश्वर का वास है, शायद इसलिए उसे...


पूंजीवाद की राजनीती और शराब में डूबती उत्तराखंड की जवानी By Editorial Team

शराब उत्तराखंड  की सदियों से परेशानी  रही है , अगर तथ्य देखें  जाए तो, उत्तराखंड का गठन शराब मुक्त होने के लिए हुआ था | हज़ारो पहाड़ के लोगों  ने उत्तरखंड राज्य आंदोलन में अपनी जवानियाँ लगा दी, एक ऐसे राज्य के सपने के...


केदारनाथ त्रासदी पर घोटालों की कैग रिपोर्ट By Editorial Team

कैग रिपोर्ट की खबर से आखें चौंधिया  जाती है, और वो भी अगर २०१३ की केदारनाथ त्रासदी के घोटालों  की हो तो आज का यह कॉलम तो बनता है |आज जब २०१३ में उत्तराखंड सरकार की कैबिनेट में रहे कॉंग्रेस के मंत्रियों की आधी...


आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से कश्मीर का हल By Editorial Team

मूलतः से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पे काम करने से अक्सर ऐसा लगता है के पीछे दशकों की सारी मुसीबतों का हल डाटा साइंस और मशीन लर्निंग के  सहयोग से ही सोल्व करी  जा सकती हैं | इस बात पे लोग शायद टेक्नोलॉजी पे अतिआशावाद होने...


शहादतों का दौर, और आपकी दो कौड़ी की राजनीति By Editorial Team

पुलवामा की शहादतों की अभी चिताएं शांत हुई न थी के ,१६ और १८ फ़रवरी को देहरादून के दो सेना के मेजर (मेजर चित्रेश सिंह बिष्ट (इंजीनियरिंग कोर ) और मेजर विभूति ढौंढियाल (५५ राष्ट्रीय राइफल्स  )  की शहादत कश्मीर के राजौरी...


पुलवामा हमले पर बुद्धिजीवियों की चुप्पी By Editorial Team

CRPF पर पुलवामा हमले के  बाद कि असल कार्यवाही में social मीडिया का कितना असर रहेगा यह अंदाजा लगाना अभी मुश्किल है, पर बीते दिनों ने हमारे देश क लुतियेन समाज के असल चेहरा सामने ला दिया है। उत्तराखंड के इंतेल्लेक्तुअल समुदाय ने...